Monday, January 5, 2009

तुम्हारे लिए

तुम मुझे छोड़कर भी मुस्कुराकर चले गए
हमेशा मेरे दिल में घर बनाकर चले गए

देखा न जा सका वो रुक्सत तुम्हारा
चले गए तुम पर रुलाकर चले गए

यादो की दुनिया में तनहा ये दिल मेरा
जिंदगी क्या चीज़ है बताकर चले गए



1 comment:

bhoothnath(नहीं भाई राजीव थेपडा) said...

इक बात तो मैं भी कहे दूँ.....
दिखायी भी ना दिए हमें और
अपनी कविता पढ़कर चले गए...
वो शब्दों में उतर कर आए और
अर्थों में समाकर चले गए...!!