Monday, November 16, 2009

तुमसे.....

तुम से प्यार करना ये अलग बात थी।
और तुम पे मरना ये अलग बात थी॥

चहा था तुमको, जिंदगी की तरह।
अपने मौत से डरना, ये अलग बात थी॥

होता अगर और भी कुछ ,जिंदगी के सिवा।
लुटा देते ,वरना ये अलग बात थी॥

यों तो बहोत है हमे देखने वाले भी मगर।
तुम्हारे लिए संवरना ये अलग बात थी..



1 comment:

nxtheplast said...
This comment has been removed by the author.